कितनी सदियों के इन्तज़ार के बाद

कितनी सदियों के इन्तज़ार के बाद
क़ुर्बत-ए-यक-नफ़स नसीब हुई
फिर भी तू चुप उदास कम-आवेज़

ऐ सुलगते हुए चराग़ भड़क
दर्द की रौशनी को चांद बना
कि अभी आंधियों का शोर है तेज़

अप पल मर्ग-ए-जावेदां का सिला
अजनबीयत के ज़हर में मत घोल
मुझको मत देख मगर आँख तो खोल!

contributed by, ABHISHEK

Translate This Blog